PCOS/PCOD Ko Khatm Karne Ke Upay-Gharelu Upachar in Hindi

READ THIS ARTICLE IN ENGLISH Ayurvedic Treatment for PCOS/PCOD at Home

Pcos Treatment in Ayurveda in Hindi - हिंदी में पीसीओडी या पीसीओएस को ख़तम करने के उपाय और घरेलू उपचार 

पीसीओएस या पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम महिला बांझपन का एक प्रमुख कारण है। बदलते आहार, तनाव और अस्वास्थ्यकर जीवन-शैली, सभी पीसीओएस (PCOS) का कारण हैं। रोगियों को मोटापे या वजन बढ़ने, चेहरे पर बाल उग आने, गला बैठने और अनियमित मासिक चक्र और मासिक धर्म प्रवाह में परिवर्तन जैसे लक्षणों का अनुभव होता है।

पीसीओडी या पीसीओएस के लिए कई उपचार विकल्प हैं। वे इस प्रकार हैं

•      हार्मोन चिकित्सा

•          शल्य चिकित्सा

•          वैकल्पिक उपचार

•          घरेलू उपचार

यहां हम पीसीओएस के प्राकृतिक और घरेलू उपचार के बारे में चर्चा करेंगे

पीसीओएस के प्राकृतिक और घरेलू उपचार:

स्वस्थ खाएं: आयुर्वेद हमेशा स्वस्थ भोजन और संतुलित आहार की सलाह देता है। अपने आहार में ढेर सारे फल और सब्जियां शामिल करें। माइनर मिलेट्स और दालें खाना भी याद रखें। माइनर मिलेट्स छोटे दाने वाले अनाज होते हैं जो सूखे क्षेत्रों में बहुतायत से उगते हैं और बहुत पौष्टिक होते हैं। उदाहरण के लिए

• बार्नयार्ड मिलेट (हिंदी: झांगोरा; तमिल: कुथिरवाली; तेलुगु: ओडुलू)

• फिंगर मिलेट (हिंदी: मंडुआ; तमिल: केल्वरगू; तेलुगु: रागुलू; कन्नड़: रागी; मलयालम: कोवरुगु)

• फॉक्सटेल मिलेट (हिंदी: कंगनी; तमिल: तेनाई; तेलुगू: कोररा; कन्नड़: नवने; मलयालम: थिना)

• कोडो मिलेट (हिंदी: कोडरा; तमिल: वरगु, तेलुगु: एरिकेल्लू; कन्नड़: हरका)

• लिटिल मिलेट (हिंदी: कुटकी; तमिल: समई; तेलुगू: समा; कन्नड़: समे; मलयालम: चामा)

• पर्ल मिलेट (हिंदी: बाजरा, तमिल: कंबू, तेलुगू: गंटिलू, कन्नड़: सज्जे)

• प्रोसो मिलेट (हिंदी: बारी; तमिल: पानिवारागु; तेलुगु: वरिगुलू; कन्नड़: बारागु)

• सोरघम (हिंदी: ज्वार; तमिल: चोलम; तेलुगु: जोना; कन्नड़: जोला; मलयालम: चोलम)

जिनमें महीन पिसे आटे, पॉलिश चावल आदि जैसे खाद्य पदार्थ जिनमें खूब स्टार्च होता है, से बचें। मिठाई, चीनी, बेकरी उत्पादों और जंक फूड को कड़ाई से न कहें। जंक फूड उपभोग करने से इंसुलिन का स्राव बढ़ जाता है जो फिर बाद में एंड्रोजन के स्राव को उत्तेजित करता है और स्त्री हार्मोन का असंतुलन पैदा करता है। कभी भी ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन न करें जो अपच या आफरा (पेट फूलना) का कारण बनें। अपच से शरीर में एक विषाक्त पदार्थ "आंव" का उत्पादन होता है जो संचित होने पर दोषों में असंतुलन का कारण बनता है। वज़न कम करने के लिए आप निलोबेस वेट लोस (NILOBESE WEIGHT LOSS CAPSULES ) कैप्सूल का सेवन कर सकते हैं। NILOBESE के उपयोग से वजन तेजी से घटता है और स्वास्थ्य बना रहता है।

संक्षेप में,

 ऐसे खाद्य पदार्थों से बचें जिनमें मीठा या चीनी ज्यादा हो। प्रोटीन, विटामिन और खनिजों से भरे खाद्य पदार्थों का सेवन करें। आपका भोजन पचने में आसान होना चाहिए और अपच का कारण नहीं बनना चाहिए।

नियमित रूप से व्यायाम करें: वजन कम करने और भूख पर नियंत्रण के लिए व्यायाम बहुत महत्वपूर्ण होता है। व्यायाम इंसुलिन स्राव को नियंत्रित करने में भी मदद करता है। 45 मिनट के लिए नियमित रूप से तेज चलना एक सरल और सर्वोत्तम व्यायाम है। इसके अलावा अपने आप को शारीरिक रूप से सक्रिय रखें और घर पर चलना और काम करना बढ़ाएं। Read Benefits of Daily Brisk Walking

नींबू और शहद: आधे नींबू और शहद का एक चम्मच भर डालकर एक गिलास गर्म पानी पीने की आदत बना लें। यह पेय वजन कम करने के लिए एक शानदार नुस्खा है। यह संयोजन शरीर को विषमुक्त करने और संचित वसा को बाहर निकालने में भी मदद करता है। नींबू और शहद का यह पेय पोषक तत्वों और एंटी-ऑक्सीडेंट्स का खजाना होता है। आप इसके साथ निलोबेस आयुर्वेदिक वजन घटाने की चाय (NILOBESE AYURVEDIC HERBAL WEIGHT LOSS TEA ) भी जोड़ सकते हैं, क्योंकि इसमें वजन घटाने वाले 8 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां डाली गयी हैं, जो शक्तिशाली वसा नाशक हैं. ((Read Do Lemon And Honey Reduce Body Fat ?  ) 

खूब पानी पीयें: शरीर सामान्य रूप से काम कर सके, इसके लिए रोजाना ढेर सारा पानी पीएं। रोजाना 2 लीटर पानी का उपभोग करें। 5-6 गिलास गर्म पानी दैनिक रूप से पीएं। गर्म पानी शरीर के कार्यों को सामान्य करता है और ऊतकों की सूजन को कम करता है। गर्म पानी शरीर के विषाक्त पदार्थों को भी निकाल बाहर करता है और किडनी व यकृत जैसे महत्वपूर्ण अंगों को साफ करता है।

PCOS gharelu Upachar in hindiजीरा और हल्दी का उपभोग करें: रोजाना दो बार आधा चम्मच जीरा (बीज) चबाएं। यह पाचन में सुधार करता है और शरीर की वसा को भी कम करता है, तथा इससे चयापचय भी बेहतर होता है। जहाँ-तहां संभव हो तो खाने में हल्दी डालें। हल्दी यकृत को विषमुक्त करने में मदद करती है और त्वचा के स्वास्थ्य को सुधारती है। (Read Health Benefits of Cumin Seeds

चेहरे के बालों से छुटकारा पाने के लिए हल्दी और खीरे का फेस मास्क लगायें: 1/4th खीरे को कद्दूकस कर लें और इसमें हल्दी की ½ चम्मच डाल लें। रोजाना दो बार मास्क के रूप में इसका चेहरे पर लेप लगाएं। यह पीसीओ या पीसीओडी के कारण बढ़े चेहरे के बालों से छुटकारा पाने में मदद करता है।(Read Ayurveda Health Benefits of Turmeric or Haldi)

हर्बल सप्लीमेंट्स की मदद लें: जड़ी-बूटियाँ इंसुलिन संवेदनशीलता को कम करके और स्त्री हार्मोन के उत्पादन को संतुलित करके अंडाशय में गांठों के गठन को कम करने में मदद करती हैं। ये पूरक महिलाओं की प्रजनन क्षमता में वृद्धि करते हैं और वजन घटाने में भी सहायक होते हैं। हमारे नैदानिक ​​अभ्यास में हमने उपरोक्त विधियों का पालन करने वाली और यूटोनॉर्म कैप्सूल (स्त्री वन्ध्यत्व

 के लिए सर्वश्रेष्ठ कैप्सूल) व पीसीओ-रिड (पीसीओडी या पीसीओएस के लिए सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेदिक कैप्सूल  PCORID & UTONORM CAPSULES ) जैसे हर्बल सप्लीमेंट्स का इस्तेमाल करने वाली महिलाओं में बहुत अच्छा सुधार देखा है।

 

BUY AYURVEDIC MEDICINES FOR PCOS

BUY PCOS/PCOD COMBO

Ayurvedic Medicine for Pcos

Ayurvedic Medicine for Pcos

BUY PCORID CAPSULES.

BEST AYURVEDIC MEDICINE FOR PCOS

Ayurvedic Medicine for Pcos

Ayurvedic Medicine for Pcos

BUY UTONORM CAPSULES.

BEST AYURVEDIC MEDICINE FOR FEMALE INFERTILITY.

Ayurvedic Medicine for Pcos

Ayurvedic Medicine for Pcos

CONSULT DR.SAVITHA SURI FOR AYURVEDIC TREATMENT FOR PCOS

Author Profile

Dr.Savitha Suri is an ayurvedic Consultant Physician. She has an experience of 26 years in the field of ayurveda. The content is copyrighted to Dr.Savitha Suri and may not be reproduced on other websites. You can contact her for free online ayurvedic consultations at drsavithasuri@gmail.com .

WhatsApp@ : +91-6360108663
Follow Dr. Savitha Suri on Google Plus